Rachnatmak Aur Prernadayak Prakriti ke Swami hote hai bhagyank 3 ke jatak

rachnatmak-aur-prernadayak-prakriti-ke-swami-hai-bhagyank-3-ke-jatak

भाग्यांक 3 वाले होते हैं राजसी और प्रेरणादायक

 

ज्योतिषी वह विद्या और शास्त्र है , जिसके  द्वारा आकाश, ग्रहो और नक्षत्रो आदि के बारे में  पता लगाया जाता है. ज्योतिषी से हमारे भविष्य में घटने वाली घटनाओ के बारे  में पता लगाया जाता है. इसी प्रकार भाग्यांग से अपने भविष्य, व्यवसाय, कैरियर में बहुत महत्वपूर्ण मन जाता है, भाग्यांग  प्राप्त करने के लिए, जन्म तिथि,  जन्म माह तथा वर्ष की आवश्यकता होती है, भाग्यांग में जन्म तिथि, माह और वर्ष को जोड़ के जो प्राप्त होता है उसे भाग्यांग  कहते है.

भाग्यांग  ३ जातको के गुण और स्वभाव :-  धार्मिक, दार्शनिक होते है और ये लोग मूलतः शांत प्रवर्ति के होते है, ये अपने जीवन काल में एक से अधिक दिशा में प्रेरणादायक होते है.

 

इस जातक के लोग चिंता को अपने जीवन में ज्यादा महत्व नही  है, साथ ही अपने  साथ दुसरो के  जीवन में उल्लसिता और  प्रसन्नता  लाते है और  जीवन को सामान्य तरह से  जीते है.

ये लोग संघर्ष और परिस्थितियों  से कभी घबराते नही है, हमेशा डट के सामना करते है, भाग्यांग ३ के जातको को निर्णय लेने की क्षमता होती है.

भाग्यांग ३ के लोग बहुत महत्वाकांक्षी होते है, इन्हें शांत माहौल पसन्द  नही होता है , ना ही चुपचाप बैठे रहना।

भाग्यांग  ३ के जातको का गुरु ग्रह से प्रभावित होता है.

भाग्यांग  ३  के लोगो में लेखन, गायन, और शिक्षण के गुण होते, जिससे वो दूसरे को मोहित करते है,   जीवन के बारे में उत्साहित होते है, साथ ही कल्पनाशील होते है, दूसरे लोगो को प्रेरित करते है.

भाग्यांग  ३  लोगो में कहि बार देखा जाता है, वो परिवार के साथ रहना पसन्द नही होता है, क्यों की वो सैद्धान्तिक व्यक्ति होते है, और अपने सिद्धन्त से हटना नही जाहते है. 

 

भाग्यांग  ३  जातको के लिए सलाह

१. जब भी कोई काम प्रारंभ करे उससे पहले बड़ो का आशीर्वाद लेकर प्रारंभ करे जिससे आपको  निश्चित  सफलता मिलेगी

२. मूलांक १, ९ वाले जातक सच्चे मित्र हो सकते है.

३. शुभ दिशा , ईशान कोण

४. शुभ धातु, सोना।

५. रोज योग करे जिससे स्वस्थ और भाग्य दोनों की वृद्धि होगी।